राजपुरोहित समाज के गौत्र

हिन्दू धर्म में प्रत्येक व्यक्ति की पहचान अपने समाज के साथ गौत्र से होती है| गौत्र से पता चलता है कि हमारा उदविकास कहाँ से हुआ तथा हमारी पहचान व इतिहास क्या है| राजपुरोहित समाज में अनेक गौत्र है| राजपुरोहित हमारी जाति है तथा गौत्र उपजाति जिसके बारे में जानकारी होना अति आवश्यक है|
हमने राजपुरोहित समाज की लगभग सभी गौत्रों का वर्णन करने का भरकश प्रयास किया| ये गौत्र व इनका संक्षिप्त परिचय निम्न प्रकार से है :-

131. कल