www.rajpurohitjansampark.com

SANCHOR (सांचोर भवन)

राजस्थान के जालोर जिले में पश्चिम की और पाकिस्तान से लगी सांचोर तहसील आई हुई हे, इस तहसील में 181 गाव राजपुरोहित के हे , जो पहले सत्यपुर नाम से जनि जाती थी , सन 1960 तक समाज ने भवन निर्माण की सोची लेकिन शुरु आत कोण करे , इस बिच श्री अमरारामजी पंडया की कोशिश से समाज के लिए प्लाट लिया गया , व 2 -2 रुपये चन्दा इकट्ठा किया गया , इस प्रकार सांचोर भवन की शुरु की गये थी , संवत 2021 वेशाख सुद 3 बुधवार को प्रथम चार कमरे बनाकर तेयार हुआ , इस की शुरूआत श्री आत्मांनद जी महाराज के कर कमलो से की गये थी ,राजस्थान राजपुरोहित भवन ( सांचोर ) में पश्चिम की ओर पाकिस्तान से लगी सांचोर तहसील आई हुई हैं जो वर्षों पूर्व सत्यपुर नाम से जानी जाती थी । आज नये बने रेवेन्यू क्षेत्र में कुल 181 गाँव ऐसे हैं जिनमें राजपुरोहित समाज सदियों से रहता हैं । इस समाज का मूल रहा हैं जिसमें कई गाँव जागीरी व अन्य डोलीदार की हैसियत से खेती करते थे । यहाँ शिक्षा कर्मी का अन्दाज इससे लगाया जा सकता कि पूरे तहसील क्षेत्र में 1947 को मुख्यालय सांचौर में ही था जहाँ आवागमन के साधन से स्थानीय छात्र नाम मात्र पढ़ सकते थे तब कि तहसील मुख्यालय पर समाज का एक भवन होना चाहिए जिससे आने वाले लोग विश्राम कर सके तथा क्षेत्र के बालक जो सांचोर में पढ़ते हैं वे भी आराम से रह सके । समाज भवन अवश्य सन समाज बन्धु विचार ही करते रहे कि होना चाहिये , पर किस स्थान पर हो , यह तय न कर पाने के कारण कुछ समय और निकल गया । श्री अमरारामजी पंड्या की कोशिश समाज के लिये प्लॉट किया गया व दो - दो रूपये प्रति घर से चन्दा इकट्ठा कर भवन निर्माण का कार्य शुरू करवाया गया । इस समय आवागमन के साधनो की पुरी कमी होने के बावजूद |

Back

Advertisement