www.rajpurohitjansampark.com

मूलराज सिंह जी

आप सेवड शिरोमणी राजपुरोहित ठाकुर मुलराज जी रावगंगा जी के समय मारवाड रियासत के राजपुरोहित थे । आपके पास करीब 11 ठिकाणो की जागीर थी । मुलरराज जी ने अनेक युध्दों में अगणी योध्दा की । भूमिका निभाकर विजय हासिल की । आपने अपने ठिकाणो मे कई हवेलीया , पोळ , दरीखाने , बावड़ीया , तालाब मान्दर आदि का निम राण करवाया । राजपुरोहित ठाकुर मुल्खराज जी के वंशज मुल्कराजोत , मुलावत , मालावत हत्यादी नामों से जाने जाते हैं । तथा प्रसिद में अखिराजोत राजपुरोहित वंश इनहि की खापं । सन्तान हे । आप ही के बड़े बेटे को राजपुरोहित समाज में सबसे पहले सिह की उपाधी संशेरशाह सूरी व भ्राबमालादेव के बीच हुए युध्द में बिरला पुर्वक प्राप्त नारदजाना करने के उपरात मिली ऐले ही इतिहास के बिखरे छिपे हुए की गौरव गाथाजी भरी हुई हैं

Back

Advertisement