जागरवाल

कुल देवी ज्वाला देवी ये अपना वंष बाल ऋषि से मिलाते है और सिंघल राठौड़ों के पिरोयत है जिनके साथ षिव और कोटड़े से जेतारण आये जहां अब तक रवेड़ी इनका शासन गांव है जब राव मालदेवजी ने सिंघलों को जेतारण में से निकाल दिया था तो उनको राणाजी ने अपने पास रख कवला बगैरा 18 गांव गौडवाड़ में दिये थे जिनमें से उन्होंने 5-6 गांव पिरोयतों को भी दिये जिनकी जमा 10 हजार से 15 हजार थी इनके शासन गांव 1. पुनाडि़या 2. ढोला का गांव 3. आकदड़ा 4. ढारिया 5. चांचोडी 6. सूकरलाई जागरवाल की कोई अलग से खांप नहीं है। Jagarwal राजपुरोहित जाति के एक subcaste / गोत्र है। Jagarwal rajpurohits के गोत्र वशिष्ठ है। ब्रह्मर्षि वशिष्ठ सूर्यवंशी क्षत्रिय / सूर्य वंश के राजपुरोहित / राजगुरु था। Jagarwal Rajpurohits राजस्थान में जालोर जिले के Sesali गांव से चले गए। Jagarwal Rajpurohits जालौर के शासक थे जिन्होंने Parmara राजपूतों की Rajpurohits थे। बाल ऋषि / Jabali ऋषि Jagarwal Rajpurohits का पूर्वज था। जालोर / Jabalipur बाल ऋषि / Jabali ऋषि के नाम पर रखा गया था। बाल ऋषि बलवाड़ा सहित 12 सासन गांवों (मुक्त गांवों किराया) था। बाद में Jagarwal Rajpurohits पर Sindhal राठौर राजपूतों की Rajpurohits बन गया। Jagarwal Rajpurohits की कुलदेवी Jageshwari देवी / ज्वालामुखी देवी है। स्वतंत्रता Jagarwal Rajpurohits मारवाड़ & Godwad क्षेत्र यानी Jasnagar, Kakindra, Lambiyan, Rewatada, वीराना, Rewat, Modran, Dakatara बागरा (मारवाड़), Basda Dhanji, ढोला सासन, Akadada, Dhariya, Punadiya, Lapod में कई सासन जागीर गांवों था पहले, आउवा सासन और चंपा खेड़ी, Dhangadwas आदि

Back