रायगुर

Raygurs जालौर से जन्म लिया है। आशापुरा माता उनकी कुलदेवी है। इस गोत्र के मुख्य thikanas khirodi purohitan नेत्र, Sokra, Sankarna, Sanderao, दोपहर, Kharokara Purohitaan, Vingarla और Faalna Tunkra हैं। कुलदेवी - आषापुरा माता ये सोनगरे चैहानो के पुरोहित है। इनके बयान है कि जालोर के रावे कानड़देव के राज में अजमाल सोनग्रा राजगुर पिरोयत हरराज के खोले चला गया उनकी आलौद रायुगर कहलायी। इनके शासन गांव ढाबर, पुनायता परगने पाली, साकरणा परगने जालोर और पातावा परगने वाली है।

Back